Tag: Poetry

कैसे छोटी सी बात पे उस दिन लड़ पड़े थे हम और कनखियों से बुन रहे थे प्यार के किस्से जो आँखें दोस्ती का हाँथ थामे आगे बढ़ती थीं तो शक्लें यूँ बनाते थे के जैसे जानते न हों बड़ी कोशिश की चेहरे ने तुम्हें गुस्सा दिखाने की फ़क़त ये सोच में बैठे की खुद से रुसवाई करें कैसे तेरे आँखों के आईने मेँ तो हम ही रहते हैं कैसे छोटी सी बात पे उस दिन लड़ पड़े थे हम

छोटी सी बात

Hindi Poetry/Quotes/Status तुमसे नाराज़ होने और खुद से नाराज़ होने में फ़र्क ही नहीं, कैसी छोटी सी बात पे उस दिन लड़ पड़े थे हम। In Hindi कैसे छोटी सी बात पे उस दिन लड़ पड़े थे हम और कनखियों...

/ October 11, 2018
नई ख्वाइशें

नई ख्वाइशें

Hindi Poetry/Quotes/Status तुम और तुम्हारी छाओं का सरमाया । In Hindi जो छाओं तुमसे मिली तो जीने लगा हूँ मैं अब धूप में जाने से भी डरने लगा हूँ मैं तुम साथ देना दिल बस यही अब चाहता है फिर...

/ September 27, 2018

वो जो कहानियाँ बुनता हूँ ना

Hindi Poetry/Quotes/Status तुमको लेकर कितने किस्से बुन रखे हैं मैंने आने वाले कल के लिये। इक उजली तस्वीर का हम दोनों हिस्सा हैं। In Hindi वो जो कहानियाँ बुनता हूँ ना तुम्हारी और मेरी तुम्हारे होठों से चुन के लफ़्ज़ों...

/ September 11, 2018
Rukhi Sadak

रूखी सड़क

Hindi Poetry/Quotes/Status ज़िंदगी दौड़ती फिरती है बस, थोड़ा सांस ले तो मैं भी कुछ कहूँ उससे। In Hindi कैसी रूखी सड़क है ये, न कोई भाव न परवाज़ दिखते हैं बस चलती ही रहती है जाने कौन सी मंज़िल की...

/ September 3, 2018

जाने क्यों

Hindi Poetry/Quotes/Status तुम्हारे एहसास से ही तो जीता हूँ मैं। नयी कहानियां सपनो में बनता हूँ मैं। In Hindi जाने क्यों मेरी आँखें तुझसे लिपट जाती हैं। अबूझ कहानियों को समेटे हुए, मेरी सांसे तुझमें सिमट जाती हैं। थोड़ी हैरान...

/ August 27, 2018

वो युगपुरुष थे कवि अटल थे

Hindi Poetry एक ऐसा कवि जो कभी विचलित न हुआ हो, जिसको भय न हो मृत्यु का न मोह हो इस जीवन का। जिसका जीवन देश के लिये रहा। ऐसे अटल कवी को मेरा नमन है। In Hindi उनकी अवलोकित...

/ August 17, 2018