Tag: Fear

एहसास को जीने दो (ehsaas ko jeene do)

Hindi Poem तुम्हारे सारे गम और सारी ख़ुशियों का पिटारा हूँ मैं, साँस आती हो या जाती हो वो एहसास सिमट के गुनगुनाते हैं। In Hindi पर्त-दर-पर्त घुलने दो मेरी ख़ामोशी में ज़र्द खुशियों से जुटाई हुई सारी हसरत तुम्हारी...

/ July 30, 2018

दरख़्त चुपचाप बैठे हैं

कितने किस्से समेटे बैठे हैं ये पेड़, डर में घुटते क्यों रहते हैं ये पेड़। In Hindi माथे पे नमकीन बरसात और गला सूखा पड़ा है ख़ौफ़ यूँ है के सारे दरख़्त चुपचाप बैठे हैं पेड़ उठते ही नहीं डालियों...

/ July 19, 2018

तेरा हाँथ थामे

ख़ौफ़ हो गया है अब कभी यहीं इसी गुलशन में तुम्हारा हाँथ हांथों में लिए घूमा करता था। In Hindi तेरा हाँथ थामे इसी मंजरे-रक़्स में घूमा करता था कभी आसमानों से कुछ तारे काट लाता था कभी जुगनुओं को...

/ July 17, 2018