Tag: Dreams

एहसास को जीने दो (ehsaas ko jeene do)

Hindi Poem तुम्हारे सारे गम और सारी ख़ुशियों का पिटारा हूँ मैं, साँस आती हो या जाती हो वो एहसास सिमट के गुनगुनाते हैं। In Hindi पर्त-दर-पर्त घुलने दो मेरी ख़ामोशी में ज़र्द खुशियों से जुटाई हुई सारी हसरत तुम्हारी...

/ July 30, 2018

बारिश

एक अनजाना सुकून है तुम्हारी बातों में, बिलकुल बारिश जैसा। तभी तो जो मेरे पास बारिश तुम्हारे लफ़्ज़ों से आती है In Hindi तुमको घंटो तकते रहना उन कहानियों को गढ़ते कभी-कभी तो मेरे लफ़्ज़ों को भी गढ़ देते हो...

/ July 17, 2018

पैरों के निशाँ भी पलट के देखते नहीं

क्यों मुड़ के नहीं देखती मुझको, आँखें अब भी इंतज़ार करती हैं। In Hindi तुमको देखता हूँ मैं निःशब्द सपनो में छू के गूँजती हैं ज़ोर से हवाएँ तुम्हें मैं तुममें गुनगुनाता हूँ तुम ख़ामोश रहती हो मगर जब जागता...

/ July 17, 2018