कुछ दूरियाँ बन गयीं या बना लीं, पर अब उन दूरियों में ही ये खाली ज़िन्दगी दौड़ती है।

In Hindi

एक ख्वाब फ़लक पे बोया था, कुछ आँसू बुन के डाले थे
तेरे सारे ख़त चुन कर के, उस खुश्क हवा में टाँगे थे
तुमने भी सारे किस्से बुन, अतरंगी साँसे डाली थी
मसरूफ़ हवा के किस्से थे, कुछ गर्द हवा के हिस्से थे
वो जो भी था सब साथ बहा, उस रोज हमारी आंखों से
कुछ टीले थे जो उग आये, उस ज़र्द हवा की आंधी में
मैं था तुम थी और उगे, कुछ टीलों के वो किस्से थे

In English

Ek khwab phalak pe boya tha, kuch aansoon bun ke dale the
Tere saare khat chun kar ke, us khushak hawa mein taange the
tumne bhi sare kisse bun, atrangi sansen dali thi
masruf hawa ke kisse the, kuch gard hawa ke hisse the
wo jo bhi tha sab saath baha, us roz hamari aankhon se
kuch teele the jo ug aaye, us zard hawa ki aandhi mein
main tha tum thi aur uge, kuch teelon ke wo kisse the

*खुश्क = Dry
*अतरंगी = Colourful
*मसरूफ़ = Busy
*ज़र्द = yellow

Posted by Tejas

Leave a Reply